पावन अखंड ज्योति

पावन अखंड ज्योति

सिद्ध शिरोमणि बाबा मस्तनाथ जी का समूचा जीवन ज्योति स्वरूप था अतः उन की पावन स्मृति को उनके जीवन की अनुरूपता प्रदान करने के लिए उनकी समाधि पर शुद्ध घी की अखंड दीप ज्योति प्रज्वलित कर दी गई जो तब से अब तक निरंतर प्रज्ज्वलित चली आ रही है |

इस अखंड ज्योति के शुभ दर्शन कर श्रद्धालु भक्त जन अब भी अपनी अस्थल बोहर मठ की यात्रा को धन्य करते हैं इस अखंड ज्योति के संबंध में लोगों की यह धारणा है कि यह अटल ज्योति मनोवांछित फल देने वाली है इसके दर्शन मात्र से मानसिक शांति मिलती है तथा सभी प्रकार के दुःख तापों का नाश होता है |

अतः इसी  श्रद्धा भक्ति से प्रेरित होकर प्रतिवर्ष सहस्त्रों नर-नारी अब भी इस के दर्शन कर अपना जीवन सफल करते हैं|

इन्हें भी देखे: